Skip to main content
Topic: ब्रह्मज्ञान : Oneness (Read 16 times) previous topic - next topic

ब्रह्मज्ञान : Oneness

अनुभव और अनुभवकर्ता में एकता के दर्शन के प्रयोग आत्मविचार द्वारा | आत्मन् ही ब्रह्मन् है | यह जानना कैसे संभव है?

https://www.youtube.com/watch?v=YkmOrsetAIk